Breaking News
recent

क्लाउड कम्प्यूटिंग में कैरियर..?


Career in Cloud Computing

आईटी का क्षेत्र अपने आप में काफी बड़ा है और इसमें भविष्य बनाने की चाहत प्रत्येक युवा के मन में रहती है और इसमें भविष्य बनाने के लिए वह तमाम तरह के प्रयत्न करता है। कई बार जानकारी के अभाव में युवा आईटी में एक जैसा करियर चुनते हैं। अगर वर्तमान टेक्नोलॉजी का ध्यान रखेंगे तब निश्चित रूप से इसमें अच्छा करियर बना सकेंगे।

आईटी के क्षेत्र में नित नई खोजें होती ही रहती हैं। इन खोजों के कारण ही लगातार इस क्षेत्र में युवा साथी आकर्षित होते रहते हैं। आईटी के क्षेत्र में भारत की विश्व में अलग ही साख है। भारतीय युवाओं को इस क्षेत्र में काफी पसंद भी किया जाता है। इस क्षेत्र में सबसे बड़ी हलचल क्लाउड कम्प्यूटिंग के माध्यम से हुई है और युवा इस ओर आकर्षित भी हो रहे हैं। निश्चित रूप से भविष्य क्लाउड कम्प्यूटिंग व इम्प्लिसिट वेब के क्षेत्र में है।

Career in Cloud Computing
क्या है क्लाउड कम्प्यूटिंग : क्लाउड कम्प्यूटिंग वास्तव में इंटरनेट-आधारित प्रक्रिया और कम्प्यूटर एप्लीकेशन का इस्तेमाल है। गूगल एप्स क्लाउड कम्प्यूटिंग का एक उदाहरण है, जो बिजनेस एप्लीकेशन ऑनलाइन मुहैया कराता है और वेब ब्राउजर का इस्तेमाल कर इस तक पहुंचा जा सकता है।

इंटरनेट पर सर्वरों में जानकारियां सेव रहती हैं और ये उपयोगकर्ता के डेस्कटॉप, नोटबुक, गेमिंग कंसोल इत्यादि पर आवश्यकतानुसार अस्थायी रूप से संग्रहित रहती हैं। इसे थोड़ा विस्तारित और सरल रूप में कहें तो सीधी-सी बात है कि अब तक जो सॉफ्टवेयर प्रोग्रामआप स्थानीय रूप से अपने कम्प्यूटर और लैपटॉप-नोटबुक पर संस्थापित करते रहे थे, अब इनकी कतई आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि ये सब सॉफ्टवेयर अब आपको वेब सेवाओं के जरिए मिला करेंगी।

यही नहीं, गूगल गियर जैसे अनुक्रमों के जरिए आपको इस तरह की बहुत सारी सुविधाएं ऑफ लाइन भी मिला करेंगी। इसके कारण कंपनियों को शून्य लागत आती है। चलाने का खर्च भी कम होता है। इसे जितनी जरूरत है, उसके अनुरूप किराए पर लिया जा सकता है। कुल मिलाकर क्लाउड कम्प्यूटिंग कंपनियों के प्रौद्योगिकी खर्च में कमी लाता है। अगर आप आईटी के क्षेत्र में अपना भाग्य आजमाना चाहते हैं तब क्लाउड कम्प्यूटिंग की ओर तेजी से अपने कदम बढ़ा सकते है, क्योंकि इसमें काफी अच्छा भविष्य है।

इंटरनेट यूज का तरीका बदलेगी नई तकनीक : इंटरनेट का अगला चरण इम्प्लिसिट वेब यानि अप्रत्यक्ष इंटरनेट का होगा जिसमें इंटरनेट का उपयोग करते वक्त जो गुप्त संकेत हम छोड़ते हैं, उन सभी को एक जगह एकत्रित कर हमारे इंटरनेट का उपयोग करने के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिये उपयोग किया जायेगा। जिस प्रकार गीली मिट्टी में चलने से हमारे पंजों के निशान मिट्टी पर अंकित हो जाते हैं, कुछ ऐसा ही इंटरनेट का उपयोग करते समय होता है।

इम्प्लिसिट वेब मतलब कस्टमाईज्ड इंटरनेट सर्विस कह सकते है। आप इंटरनेट पर क्या देखते है क्या सर्च करते है और आपकी पसंद के क्या विषय है इसे एकत्रित कर अपने आप विश्लेषण हो जाता है और जब आप कम्प्युटर पर इंटरनेट ब्राउज करते है तब आप जो चाहते है वही मिलता है जिससे समय की बचत होती है। इस क्षेत्र में युवा साथी अपना भविष्य बना सकते है क्योंकि इंटरनेट के प्रयोगकर्ताओं की संख्या काफी तेजी से बढ़ती जा रही है।

यहां से कर सकते हैं कोर्स
1. नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी (एनआईआईटी), बेंगलूर।
2. आईआईएचटी, चेन्नई।
3. विजुअलपाथ, हैदराबाद।
4. वीजीआईटी, चेन्नई।
5. बिजनेस एक्सीलेंस इंस्टिट्यूट प्राईवेट लिमिटेड, नई दिल्ली।

No comments:

@problemhunt.com. Powered by Blogger.